Skip to product information
1 of 2

Phir Se Ghar Ki Or

Phir Se Ghar Ki Or

Publisher: Eklavya
Author: Priti David
Translator: Lokesh Malti Prakash
ISBN: 9789394552227
Binding: Paperback
Language: Hindi
Pages: 61
Regular price ₹ 70.00
Regular price Sale price ₹ 70.00
Sale Sold out
Shipping calculated at checkout.

Shipping & Returns

Dimensions

लहराते ताड़ के पेड़ों, उपजाऊ खेतों और मीठे पानी के तालाबों वाली घाटी 11 वर्षीय सेलवा का घर है - वह जन्नत है। लेकिन अगर वह और उसके दोस्त आगे पढ़ाई करना चाहें तो उन्हें जंगल के दुर्गम रास्ते से गुज़रकर सरकारी स्कूल जाना पड़ेगा। सेलवा चिन्तित है कि कुछ सालों में उसे मजबूरन पढ़ाई छोड़कर काम की तलाश में कहीं और जाना पड़ेगा, जैसा कि इलाके के सभी बड़े बच्चों को करना पड़ता है। वह अपना घर छोड़कर सुदूर स्थित मिलों और कारखानों में काम की तलाश में नहीं जाना चाहता। तो वह एक साधारण-सा सवाल पूछता है, “क्या हम अपना स्कूल नहीं खोल सकते?”
View full details